मौर्योत्तर काल संबंधित जानकारी | Post Maurya Period Related Knowledge in Hindi - EXAMS TIPS HINDI

Tuesday, August 6, 2019

मौर्योत्तर काल संबंधित जानकारी | Post Maurya Period Related Knowledge in Hindi

मौर्योत्तर काल संबंधित जानकारी | Post Maurya Period Related Knowledge in Hindi

इस लेख में मौर्योत्तर काल (Post Maurya Period) से संबंधित सामान्य ज्ञान को बताया गया है। अधिकांश प्रतियोगी परीक्षाओं में इस विषय से प्रश्न पूछे जाते है। यह जानकारी विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं UPSC, PSC, SSC, रेलवे, पुलिस, Navy, विद्युत विभाग, NET इत्यादि के लिए बहुत उपयोगी है। इस जानकारी की pdf फ़ाइल लेख के अंत में दी गयी है, जिसे आप फ्री में डाउनलोड कर सकते है।

Post Maurya Period, मौर्योत्तर काल, प्राचीन भारत का इतिहास
Post Maurya Period Related Knowledge in Hindi

● किस क्षेत्र में अजंता शाखा सातवाहनों से प्रारंभ होती है →  चित्रकला
● विदिशा में गरुड़ स्तंभ की स्थापना किसने की थी →  हेलियोडोरस
● शक शासकों के भारतीय गवर्नरों को क्या कहा जाता था →  क्षत्रप
● गोण्डोफर्निज के शासन काल में कौन ईसाई धर्म प्रचारक भारत आया था → सेंट थॉमस
● सातवाहन काल का प्रसिद्ध बंदरगाह कौन-सा था → भड़ौच
● अंतिम भारतीय यूनानी सम्राट कौन था → हर्मियस
● किसे भारत का आईंस्टाइन कहा जाता है → नागार्जुन
● बेरिनिस नगर की स्थापना किसने की थी →  टॉलेमी फिलाडेल्फस
● किस संहिता में यवन को बर्बर कहा गया है→  गार्गी संहिता
● वाकाटक किस देवता के भक्त थे →  शैव
● निकेल मिश्रित ताँबे का सिक्का चलाने का श्रेय किसे है →  अगाथोक्लीज
● किसके सिक्के पर पहली बार तिथि दर्ज की गई →  जीव दामन
● सातवाहन प्रशासन में जनजातीय क्षेत्रों का प्रशासक कौन था →  गौल्मिक
● खजांची के पद पर सातवाहन प्रशासन में कौन अधिकारी नियुक्त होता था →  हेरेनका
● भगवतगीता किस संप्रदाय का मुख्य धर्म-ग्रंथ था →  भागवत
● पशुबलि के पक्ष में कौन नहीं थे →  भागवत लोग
● भविष्य पुराण में सूर्य की पूजा के लिए किन्हें बुलाया गया →  मग ब्राह्मणों को
● किस शासक के सिक्कों पर सूर्य की प्रतिमा है → कनिष्क
● तत्कालीन सूर्य के मंदिरों के खंडहर कहाँ मिलते हैं →  कश्मीर व अल्मोड़ा
● जैन दिगंबर संप्रदाय का गुरु कौन था →  शिवभूति
● पतंजलि ने पाणिनी की रचना अष्टाध्यायी पर कौन-सा ग्रंथ लिखा →  महाभाष्य
● प्रतिज्ञायोगंधरायण नाटक की रचना संस्कृत के किस प्रसिद्ध कवि ने की → भास
● बुद्धचरितम् महाकाव्य किसने लिखा →  आचार्य अश्वघोष
● मृच्छकटिक नाटक किसने लिखा →  कवि शूद्रक
● नाट्यशास्त्र की रचना किसने की → भरतमुनि
● कामसूत्र की रचना किसने की →  वात्स्यायन
● भरहुत का प्रसिद्ध स्तूप किस काल में बना →  शुंग काल
● किस काल में अजंता की कुछ गुफाएँ बनीं →  शुंग काल
● भारत के व्यापारी चीन से रेशम खरीदकर कहाँ पहुँचाते थे→  रोम
● मिलिंदपन्हो में कितने व्यवसायों का विवरण है →  750
● द्वैध-शासन प्रथा की शुरूआत किस शासन काल में हुई थी →  कृषाणों के
● सामंतीकरण की प्रक्रिया किस काल से आरंभ हुई → कुषाण काल
● पेरिप्लस के अनुसार दासों का व्यापार कहाँ होता था →  फारस की खाड़ी से भृगुकच्छ में
● कुषाण काल में कौन-से व्यापारिक संगठन थे → निगम, पूग श्रेणी, सार्थवाह
● उरैयूर तथा अरिकमेडु किस प्रकार के उद्योग केंद्र थे →  सूतीवस्त्र
●  चाँदी, ताँबा तथा शीशा से कौन-सा सिक्का चलाया जाता था→  कार्षापण
● तैलिक चक्र पहिए का उल्लेख किस ग्रंथ में मिलता है→ दिव्यावदान
● गुणाढ्य ने वृहत्कथा की रचना किस भाषा में की→ पैशाची
● किस ग्रंथ में पुत्र को संसार सागर पार करने वाली तरिणी कहा है → ऐतरेय ब्राह्मण
● कुषाण शासक हुविष्क ने हविष्क नगर कहाँ बसाया →  कश्मीर
● पांड्यों का उल्लेख सर्वप्रथम किस विदेशी यात्री ने किया था → मेगस्थनीज
● पांड्य राज्य का प्रतीक चिन्ह क्या था → मछली
● सागर पूजा प्रथा का आरंभ किसने किया →  नेडियोन
● मध्यकाल के आरंभ में चोल राज्य क्या कहलाता था →  चोलमंडलम् (कोरोमंडल)
● किस शासक ने कावेरी के तट पर पुहार की स्थापना की →  करिकाल
● पट्टिनप्पालै के लेखक को करिकाल ने कितनी स्वर्ण मुद्राएँ उपहार में दीं →  एक लाख साठ हजार
● चेर वंश के उदयिन जेरल को अन्य किस नाम से पुकारा जाता है →  लाल चेर
● किस चेर शासक ने पत्तिनी या कण्णगी पूजा प्रारंभ की → उदयिन जेरल
● उरैयूर का कौन-सा व्यापार प्रसिद्ध था →  कपास
● किस वंश के लोग मृतकों को धान चढ़ाते थे →  चेर वंश
● शवदाह की प्रथा किस वंश में शुरू हो गई थी→  चेर वंश
● संगम युग में सभी शासक किस प्रकार की सेना रखते थे →  पेशेवर सैनिक
● किस युग में शत्रु की फसलों को नष्ट कर देने का विधान था संगम युग
● किल्कनक्कु अर्थात् 18 लघु ग्रंथ किस प्रकार के हैं→  उपदेशात्मक
● शिल्पादिकारम् का अर्थ क्या है →  नूपुर की कहानी
● किस कहानी के समाप्त होने पर मणिमेखलै की कहानी आरंभ होती है →  शिल्पादिकारम्
● किस महाकाव्य में कापालिक शैव धर्म का उल्लेख है →  मणिमेखलै
● जीवक चिंतामणि महाकाव्य किस महा कवि जैन मुनि द्वारा लिखा गया → तिरुतक्कदेवर
● संगम युग में प्यार की कविता क्या कहलाती थी → अंगम
● संगम युग में पुरम किसे कहते थे→ युद्ध की कविता
● संगम युग में विवाह कब संपन्न होता था → शुक्ल पक्ष
● संगम युग में 'को' शब्द किनके लिए प्रयोग होता था →  राजा तथा भगवान
● किसके लिए नागर, कोट्टम, पुरई और कोली शब्दों का प्रयोग होता था →  मंदिर
● बलावन, किल्लि, सोम्बिदास तथा नेई किन्हें कहा जाता था→  चाल
● शुंग वंशी पारसीक थे तथा मित्र (सूर्य) के उपासक थे, किसने कहा है →  पं. हरप्रसाद शास्त्री
● शृंगों की उत्पत्ति भारद्वाज गौत्र के ब्राह्मण से किसने बताई है →  महर्षि पाणिनी
● किसके अनुसार अग्निमित्र को बैम्बिक कुल का बताया →  मालविकाग्निमित्र
● दिव्यावदान के अनुसार शुंग किसके वंशज थे →  मौर्य
● भारत आये विदेशी आक्रमणकारी यवन कौन विदेशी थे→  बैक्ट्रियन
● पहलव कौन विदेशी थे →  पार्थियन
● शक कौन विदेशी थे → सीथियन

यह भी पढ़ें:- 


मौर्य साम्राज्य संबंधित जानकारी
गुप्त साम्राज्य संबंधित जानकारी
गुप्तोत्तर काल संबंधित जानकारी
प्रमुख गुफाएँ, स्तूप एवं चैत्य संबंधित जानकारी

● कुषाण कौन विदेशी थे→  यू-ची
● शृंगकालीन शासक पुष्यमित्र का कौन-सा शासनकाल रहा→ 185-149 ई.पू.
● अग्निमित्र का कौन-सा शासनकाल रहा→  148-140 ई.पू
● वसुज्येष्ठ का कौन-सा शासनकाल रहा →  140-133 ई.पू.
● वसुमित्र का कौन-सा शासनकाल रहा → 133-123 ई.पू.
● भद्रक का कौन-सा शासनकाल रहा →  123-114 ई.पू
● भागवत् का कौन-सा शासनकाल रहा → 114-83 ई.पू.
● देवभूति प्रथम का कौन-सा शासनकाल रहा→  82-73 ई.पू.
● कण्व वंश के शासक वासुदेव का कौन-सा शासनकाल रहा→ 73-64 ई.पू.
● भूमिमित्र का कौन-सा शासनकाल रहा →  64-50 ई.पू.
● नारायण का कौन-सा शासनकाल रहा →  50-38 ई.पू.
● सुशर्मा प्रथम का कौन-सा शासनकाल रहा→  38-28 ई.पू.
● सातवाहन वंश के शासक सिमुक का कौन-सा शासनकाल रहा →  235-212 ई.पू.
● कान्ह/कृष्ण का कौन-सा शासनकाल रहा → 212-195 ई.पू.
● शातकर्णी प्रथम का कौन-सा शासनकाल रहा → 195-186 ई.पू.
● पूर्णत्संग (वेदि श्री सति श्री) का कौन-सा शासनकाल रहा →  186-166 ई.पू.
● शातकर्णी द्वितीय का कौन-सा शासनकाल रहा →  166-111 ई.पू.
● लम्बोदर, आपलक का कौन-सा शासनकाल रहा →  111 ई.पू. से 20 ई.
● कुंतल शातकर्णी आदिहाल का कौन-सा शासनकाल रहा→  20-24 ई.
● गौतमीपुत्र शातकण का कौन-सा शासनकाल रहा→  70-95 ई. में
● वाशिष्ठीपुत्र सामि श्री पुलुमावि द्वितीय का कौन-सा शासनकाल रहा → 96-119 ई.
● वाशिष्ठीपुत्र श्री शातकर्णी का कौन-सा शासनकाल रहा→ 120-149 ई.पू.
● शिव श्री पुलुमावि का कौन-सा शासनकाल रहा → 150-156 ई.
● श्री शिवखंड शातकर्णी का कौन-सा शासनकाल रहा →  157-159 ई.
● श्री यन का शासनकाल कौन-सा रहा → 160-189 ई.
● चेदि वंश का संस्थापक था →  महामेघवाहन
● खारवेल किस वंश से संबद्ध था →  चेदि
● कलिंगाधिपति तथा कलिंग चक्रवर्ती की उपाधि किसने धारण की →  खारवेल
● नंदराज द्वारा खुदवाई गई नहर का विस्तार तनुसुलि से कलिंग तक किसने →  खारवेल
● सातवाहनों की राष्ट्रभाषा कौन-सी थी →  महाराष्ट्री प्राकृत
● आभीर वंश का संस्थापक कौन था →  ईश्वरसेन
● 248-49 ई. में कलचुरि चेदि संवत की स्थापना किसने की →  दुश्वरसेन
● ईश्वाकु वंश का संस्थापक कौन था →  श्रीशान्तमूल
● पुराणों में किसे श्रीपर्वतीय तथा आंध्रभृत्य कहा गया है →  श्रीशान्तमुल
● चाटुशातकर्णी वंश का अंत किनके द्वारा किया गया → कदंबों
● मालविकाग्निमित्र के अनुसार अग्निमित्र किस वंश का था →  बैम्बीक
● भिक्षु, सम्राट तथा धर्मराज किस चेदि शासक को कहा जाता था →  खारवेल
● हेलियोडोरस किसका पुत्र था →  डायोस (तक्षशिलावासी)
● महाभाष्य में शकों को क्या कहा गया है →  अनिर्वासित शुद्र
● नहपान का सेनापति कौन था→  उषावदात
● प्रवरसेन द्वितीय को सेतुबंध लिखने में किसने सहायता की थी →  कालिदास
● इण्डोग्रीक प्रशासन में क्षेत्र विशेष के शासक को क्या कहा जाता था →  मेरीदर्ख
● पतंजलि के अनुसार मथुरा किस प्रकार के वस्त्र का निर्माण केंद्र था →  साटक
● मनुस्मृति में विधिवत् पुनर्विवाह करने वाली स्त्री को क्या नाम दिया गया है →  पुनर्भु
● नियोग से उत्पन्न पुत्र को क्या कहा गया है → क्षेत्रज
● परे पुरुष से जन्मा पुत्र क्या कहलाता है →  कनिन
● स्वयं अपनी पत्नी द्वारा जन्मा पुत्र क्या कहलाता है →  औरस
● महापाषाण शब्द का प्रयोग किसके लिए होता है→  कब्र
● संगमकालीन पांड्य शासक नेडियोन ने किस प्रथा को आरंभ किया था →  सागर पूजा
● पलशालैमुडुकुडुमी शासक की पलशालै उपाधि का क्या अर्थ है →  यज्ञशालाएँ बनवाने वाला
● नेंदुजेलियन शासक ने निर्दोष कोवलन को हार चुराने पर क्या दंड दिया था →  मृत्युदंड
● बाद में सच्चाई का पता चलने पर नेंदुजेलियन ने क्या किया  → आत्महत्या
● वेरिवरशेलिय कोरकै ने कौन-सी उपाधि धारण की →  नवरत्न
● पांड्य वंश का अंतिम शासक कौन था →  नल्लीयकोडन
● चोल वंश का प्रथम शासक कौन था  →  इलनजेत चेन्नी
● चोल वंश का सर्वाधिक महत्वपूर्ण शासक, जिसे जले हुए पैरों वाला कहा जाता है, कौन था→  करिकाल
● करिकाल ने पट्टिनप्पालै के लेखक को कितनी स्वर्ण मुद्राएँ उपहार में दीं →  1,60,000
● चेर राज्य का प्रतीक चिन्ह क्या था →  धनुष
● चेर वंश का प्रथम शासक कौन था → उदयिन जेरल
● उदयिन जेरल को अन्य किस नाम से जाना जाता है → लाल चे
● चेर शासक पल्यानैक्षल्केलु कुट्ट्वन ने किन दुर्गों को विजित किया →  अगप्पा एवं कोंगू
● चेर शासक शेनगुट्टवन ने कौन-सी उपाधि धारण की थी → अधिराज
● संगमकालीन अंतिम चेर शासक कौन था → पेरुनजेरल इम्पोरई
● संगमकालीन सेनाध्यक्षों को कौन-सी उपाधि दी जाती थी → एनाडि
● शासक वर्ग को क्या कहा जाता था → अरसर
● खेत-मजदूर को काम करने वाले निचले वर्ग के लोग क्या कहलाते थे → कैडसियर
● राजा के जन्मदिन हेतु कौन-सा शब्द प्रयुक्त था → पेरुनल
● बड़े गाँव क्या कहलाते थे →  पेरुर
● छोटे गाँव क्या कहलाते थे→ सिरुर
● पुराने गाँव क्या कहलाते थे→  मुडूर
● जबरन लिए गए उपहार हेतु क्या शब्द था → इराकू
● अतिरिक्त या जबरन वसला आने वाला कर क्या कहलाता था →  इरवै
● याल किसे कहा जाता था → एक प्रकार का वाद्ययंत्र
● दुश्मनों से लिया जाने वाला कर क्या कहलाता था→  इरई
● कर को क्षेत्र क्या कहलाता था → वरियम
● कर वसूल करने वाले को क्या कहा जाता था →  वरियार
● बाजार की जगह को क्या कहते थे → अवनम
● एनियर कौन थे→ शिकारी जाति
● मछुआरे क्या कहलाते थे →  परादावार
● रस्सी बनाने वाली जाति क्या कहलाती थी →  पुल्लैयन
● राजधानी का न्यायालय क्या कहलाता था → अवई
● मौर्योत्तर कालीन सिंधु तट पर स्थित पाटल बंदरगाह का 'पेरिप्लस ऑफ इरीथियन सी' में उल्लिखित क्या नाम है → बेरीबेरीकम
● खंभात तट पर स्थित भरूकच्छ (भड़ौच) का क्या नाम है→  बेरीगाजा
● महाराष्ट्र तट पर स्थित सूर्पारक का क्या नाम है→ सोपारा
● कर्नाटक तट पर स्थित वैजयंती बंदरगाह का नाम क्या है → विजाडोगा
● केरल तट पर स्थित मुजीरिस बंदरगाह का नाम क्या है → क्रेगनूर
● आंध्र तट पर स्थित मसूलीपत्तनम बंदरगाह का क्या नाम है →  मसालिया
● पांडिचेरी तट पर स्थित अरिकामेडू को क्या कहा गया है →  पोडुका
● कावेरी तट पर स्थित कावेरीपत्तनम (पुहार) बंदरगाह का क्या नाम है → कमर
● संगम काल की तीन परिषदों में प्रथम परिषद् तेन मदुरा में स्थित, इसके अध्यक्ष कौन थे →  अगस्त्य
● द्वितीय परिषद् जो कपाटपुरम में स्थित थी, जिसके अध्यक्ष कौन थे → अगस्त्य एवं तोल्कापियर
● मदुरा में स्थित तृतीय परिषद् के अध्यक्ष कौन थे →  नक्कीरर
● संगम कालीन क्षेत्र कुरिंजी (पहाड़ी) की विशिष्टता क्या थी → विवाह-पूर्व प्रेम
● पल्लई (शष्क भूमि) की विशिष्टता क्या थी →  प्रेमियों का लंबा विरह
● मरुदम (मैदानी इलाके) की विशिष्टता क्या थी→ विवाहेत्तर प्रेम
● शिकारियों की जाति कौन-सी थी→  एनियर
● प्रेम विवाह क्या कहलाता था → कलाभु
● माता-पिता द्वारा तय विवाह को क्या कहते थे →  करपू
● राजा की शक्ति को नियंत्रित करने वाली परिषद में मंत्री क्या कहलाते थे →  अमैचर
● जासूस क्या कहलाते थे → ओरार्र

इस जानकारी की PDF फ़ाइल डाउनलोड करें- 

मौर्योत्तर काल pdf

हमारी हमेशा कोशिश रही है कि पाठकों को सभी विषयों के महत्वपूर्ण जानकारी से अवगत कराए। उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा। सभी प्रकार के प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी हिंदी भाषा में करने के लिए हमसे जुड़े रहें। इस जानकारी को अपने दोस्तों से ज़रूर शेयर करें।

यह भी पढ़ें:- 


भारतीय इतिहास की महत्वपूर्ण प्रतियोगी परीक्षा उपयोगी जानकारी 
प्रागैतिहासिक काल संबंधित जानकारी
हड़प्पा सभ्यता संबंधित जानकारी
वैदिक संस्कृति संबंधित जानकारी
महाजनपद काल संबंधित जानकारी
धार्मिक आंदोलन से संबंधित जानकारी

Tags: मौर्योत्तर काल pdf, मौर्योत्तर काल in Hindi, मौर्योत्तर काल के महत्वपूर्ण प्रश्न, मौर्योत्तर काल प्रश्नोत्तरी मौर्योत्तर काल in hindi, मौर्योत्तर काल से संबंधित प्रश्न

No comments:

Post a Comment