मापन और चिन्हन औज़ार | Measuring and Marking Tools used in Carpentry in Hindi - EXAMS TIPS HINDI

Home Top Ad

Post Top Ad

Sunday, January 12, 2020

मापन और चिन्हन औज़ार | Measuring and Marking Tools used in Carpentry in Hindi

मापन और चिन्हन औज़ार | Measuring and Marking Tools used in Carpentry in Hindi

Measuring and Marking (मापन तथा चिन्हन):- बढ़ईगिरी में मापन तथा चिन्हन बहुत महत्वपूर्ण क्रिया है। लम्बाई चौडाई, मोटाई या अन्य मापों का परिमाण ज्ञात करने की क्रिया को मापन कहते है। किसी टुकड़े को वांछित आकार देने के लिए उस पर आवश्यक मापें अंकित करने की क्रिया को चिहन (marking) कहते है।
Measuring and Marking Tools:- प्रमुख मापन तथा चिन्हन औजार निम्न प्रकार है-

1. Rular (पैमाना):- यह एक पट्टी की आकार की होती है जो लकडी या इस्पात की बनी होती है। इस पर सेंटीमीटर मिलीमीटर या इच-फुट का निशान बना होता है। उसका प्रयोग करने से पहले हम देखते हैं कि जिस तल पर निशान लगाना है। वह समतल या नहीं। उपयोग के आधार पर ये विभिन्न डिजाइनों तथा लंबाइयों के होते है।

(i) Straight Edge Rule(सरल पट्टी पैमाना):- यह लकड़ी था इस्पात का, चौरस तथा सिधे और समान्तर किनारों का बना होता है। इसका प्रयोग लगभग हम सभी कर चुके होंगे। ये 300 मिमी व 600 मिमी लम्बाई तक उपलब्ध होते है। इस पर मिमी, सेमी इंच व फुट का निशान लगा होता है।

Mortise Gauge
Folding Rule
(i) Folding Rule ( परती पैमाना):- इस पैमाने के दोनों ओर मिमी-सेमी या इंच-फुट में निशान लगे रहते है। 150 मिमी लम्बा चार भागों में बंटा हुआ है तथा ये भाग कब्जों द्वारा आपस में जुटे रहते हैं जिसे पूरा खोलने पर 600 मिमी लंबा हो जाता है। बढ़ईगीरी मे इस पैमाने का अधिक्तम प्रयोग लिया जाता है।

flexible steel rule
Flexible Steel Rule
(iii) Flexible Steel Rule (लचीला इस्पाती पैमाना):- यह इस्पात का पट्टीनुमा होता है जिस पर मिमी-सेमी तथा मीटर में निशान लगे होते है। उपयोग करने के पश्चात इसे चमडे प्लास्टिक या इस्पात के खोल में लपेट देते है। इससे बड़ी लम्बाई अधिकांश नापी जाती है।

try square
Try Square

2. Try square ( गुनीया या परिक्षण वर्ग):- इस्पात का एक ब्लेड या इस्पात के हैंडल में इस प्रकार रिवेट किया जाता है कि अन्दर की तरफ ब्लेड तथा हैंडल के ठीक 90° का कोण हो। लकडी की हैंडल की दिशा में इसकी अन्दर की सतह पर पीतल की पत्ती लगी होती है जिससे लकड़ी पर रगडने से घिसे नहीं। ब्लेड 150 से 300 मिमी लम्बे होते है और कुछ मिमी व सेमी के निशान लगे होते हैं। इसका उपयोग  लम्बरेखाएं खींचने ,लम्बाई मापने , समान्तर रेखा खिचने आदि में किया जाता है।

3. Bevel square (बेवेल वर्ग):- यह भी गुनीया के समान एक इस्पात का ब्लेड तथा लकड़ी या इस्पात का हैंडल होता है। इसमें ब्लेड हैंडल में रिवेट नहीं होता है। इसलिए यह हैंडल के साथ 0° से 180° तक किसी भी स्थिति में खड़ा किया जा सकता है। ब्लेड में खांचा बना होता है जिससे हैंडल पर लम्बाई सरकाया जा सकता है। खाँचे मे से होकर ब्लेड हैण्डल में हिंज किया जाता है। ब्लेड का एक सिए अर्द्ध वृताकार तथा दुसरा 45° कोण पर कटा होता है। लकड़ी की हैंडल की दिशा में इसके दोनों किनारों पर पीतल की पतियां चढ़ी होती है। साधारणत्या 150 से 300 मिमी लम्बाई तक के ब्लेड उपलब्ध होते है।

scriber
Scriber
4. Scriber ( चिन्हल चाकू या खरोंचक):- यह लगभग 200 मिमी लम्बी इस्पात की छड़ होता है। इसका एक सिरा नुकीला तथा दुसरा चाकू के फलन की भाँति चपटा और तेज धार वाला है। साधारणतया इसके, नुकीले भाग से बिंदु लगाये जाते है तथा चपटी भाग रेखाऐं खिचने के काम आता है।

marking gauge
Marking Gauge
5. Marking Gauge (चिन्हन गेज):- इसमें लगभग आयताकार या वर्गाकार अनुप्रस्थ काट वाली लकड़ी का एक भाग होता है जिसे तना कहते है। इसके एक सतह पर एक सिरे से आरम्भ करके सेमी तथा मिमी के निशान लगे होते है। इस तने में एक नुकीली पिन लगी होती है। यह तना लकड़ी के एक गुटके में सरकाया जाता है। इसके लिए गुटके में अनुप्रस्थ काट के समान आकार का छेद बना होता है। गुटके में लकड़ी या प्लास्टिक का पेंच लगा होता है जिसे कसकर तने को गुटके में किसी भी स्थिति में स्थिर किया जा सकता। चिन्हन-गेज लकड़ी पर किसी भी किनारे के समान्तर रेखाऐं खीचने के काम आता है। इसके लिए गुटके के स्पशी पृष्ट को लकड़ी के किनोरे से पूर्णतया स्पर्श करते हए तथा पिन को रेखा खिंचे जाने बाले तल पर चुभाते हुए गेज को खिसकाया जाता है।

Mortise Gauge
Mortise Gauge
6. Mortise Gauge  (मार्टिस गेज):- यह भी चिन्हन गेज की तरह होता है परंतु, इसमें दो पिनें होती हैं । एक पिन तने के साथ स्थिर तथा दूसरी इसमें बने खाँचे में आगे-पीछे सरकायी जा सकती हैं। इस तरह दोनो पिनों के बीच की दूरी अधिक-कम कर सकते हैं । इसका प्रयोग अधिकतर मार्टिस तथा, टेनन चिन्ह लगाने में किया जाता है।

7. Cutting Gauge: (कर्तन गेज) : - यह गेल भी चिन्हन गेज की तरह होता है। परंतु इसमे पिन के स्थान पर एक कर्तन चाकू लगा रहता है। तने से चाकू का उभार एक फन्नी की सहायता से निश्चित किया जा सकता है। इस गेज का प्रयोग लकडी के रेशे को लम्बवत काटने, डोवटेल जोड़ आदि में किया जाता है।

हमारी हमेशा कोशिश रही है कि पाठकों को सभी विषयों के महत्वपूर्ण जानकारी से अवगत कराए। इस लेख में मापन और चिन्हन औज़ार (Measuring and Marking Tools) की महत्वपूर्ण जानकारी दी गयी है। उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा। सभी प्रकार के प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी हिंदी भाषा में करने के लिए हमसे जुड़े रहें। यह लेख विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं एसएससी जूनियर इंजीनियर, UPPCL जे.ई., रेलवे, NTPC, TG II के लिए महत्वपूर्ण है। इस जानकारी को अपने दोस्तों से ज़रूर शेयर करें।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad