Header Ads Widget

बढ़ईगिरी में जॉब को पकड़ने वाले औज़ार | Tools to Holding jobs in Carpentry in Hindi

बढ़ईगिरी में जॉब को पकड़ने वाले औज़ार | Tools to Holding jobs in Carpentry in Hindi

बढ़ईगिरी में जॉब को पकड़ने वाले औज़ार
बढ़ईगिरी की यह बहुत महत्वपूर्ण क्रिया है क्योंकि किसी भी लकड़ी आदि को उचित ढंग से पकड़ा जाना आवश्यक है। कर्मशाला मे निर्माणाधीन पदार्थ के टुकड़े को जॉब कहते हैं | जॉब के आधार पर इन्हें अनेक प्रकार से पकड़ने के आधार निम्न औज़ार है -

बढ़ईगिरी में जॉब को पकड़ने वाले औज़ार, Tools to Holding jobs in Carpentry in Hindi
बढ़ईगिरी में जॉब को पकड़ने वाले औज़ार | Tools to Holding jobs in Carpentry in Hindi


1.Bench and Bench vice( बेंच या बेंच वाईस)

Bench
Bench

 i. Bench (बेंच):- बदईगीरी की कार्य में यह सबसे आवश्यक है। बेंच एक लकड़ी की बहुत मजबूत मेज के समान होती है | इसकी दुप्रशुक्त लम्बाई उपर्युक्त 3000 मिमी, चौड़ाई 900 मिमी तथा ऊचाई 800 मिमी होती है। बेंच पर बंधन तथा आलम्बन के अन्य औजार , बैंच हुक तथा बेंच स्टॉप आदि लगे होते हैं ।

Bench Vice
Bench Vice

ii. Bench Vice (बेंच वाईस):- यह लोहे और और इस्पात की बनी होती है। इसका एक जबड़ा बेंच पर बोलतो की सहायता से कसा जाता है।और दूसरा जबड़ा हत्थे की सहायता से चलाया जाता है। जब हत्थे को घुमाया जाता है तो यह जबड़ा भी चलता है क्योंकि हत्थे में पेंच लगे होते हैं। इसके जॉब पर निशान न बनने के लिए जबड़े में लकड़ी लगी होती है। साधारण वॉइस लगभग 300 मिमी खुलने वाली होनी चाहिए।

Bench-Hold-Fast
Bench-Hold-Fast

2. Bench-Hold-Fast (बेंच-होल्ड-फ़ास्ट):- इसके मुख्य भाग पिटवा लोहे का स्तंभ, ढलवे लोहे का वर्गाकार चूड़ी वाला पेंच तथा घात-वर्घ्य ढलवाँ लोहे की भुजा है। बेंच से कसने से लकड़ी के टुकड़े को भुजा तथा बेंच की सतह के बीच पकड़ा जाता है। बेंच होल्डफास्ट को उचित स्थान पर लगाने के लिए बेंच की सतह पर अनेक छेद किया जाता है। पेंच को कसने से स्तंभ छेद की सतह के विरुद्ध और भुजा लकड़ी के टुकड़े को बेंच की सतह पर दबा कर रखती है।

Bar-Clamp
Bar-Clamp

3. Bar-Clamp (छड़-शिकंजा):- इसे संधार शिकंजा भी कहते हैं। इसका मुख्य भाग आयताकार T या I-काट नरम इस्पात की एक छड़ होती है। जिसमें थोड़ी दूर पर छेद बने होते हैं। इसमें एक लंबा पेंच होता है जो घूम सकता है। पेंच के दूसरे किनारे एक जबड़ा इस प्रकार लगा होता है कि पेंच को घुमाने से यह क्षण पर आगे या पीछे खिसक सकता है। इसके अतिरिक्त एक और जबड़ा हाथ से सरकाया जाता है जिससे जबड़े का छेद से मिल जाए। मिलने के बाद इसमें पिन फिट कर देते हैं। साधारणतया 600 मिमी से 2000 मिमी लंबाई के शिकंजे उपलब्ध होते हैं।

G or C Clamp
G or C Clamp

4. G or C Clamp (G या C शिंकजा):- इसका मुख्य भाग घात-वर्घ्य ढलवाँ लोहे का G या C के आधार का एक फ्रेम होता है। फ्रेम एक स्टैंड पर स्थिर होता है जिसमें चूड़ी बनी होती है। फ्रेम तथा पेंच में एक-एक जबड़ा लगा होता है। यह 50 मिमी से 300 मिमी तक के साइजों में उपलब्ध है।

Hand Screw
Hand Screw

5. Hand Screw (दस्ती पेंच):- इसमें दो लकड़ी के जबड़े और दो इस्पात के पेंच होते हैं। एक पेंच दायें जबड़े में कटी चूड़ियों में से बाएं जबड़े के केवल छेद में घूमता है तथा दूसरा पेंच बायें जबड़े में कटी चूड़ियों में से दायें जबड़े में केवल घूमता है। यह दोनों जोड़ों का मुंह जिसमें लकड़ी पकड़ी जाती है समांतर होते हैं। इस दोनों पेंच को हाथ में पकड़ कर दोनों के बीच जॉब को रखकर पेंच घुमाया जाता है।

हमारी हमेशा कोशिश रही है कि पाठकों को सभी विषयों के महत्वपूर्ण जानकारी से अवगत कराए। इस लेख में बढ़ईगिरी में जॉब को पकड़ने वाले औज़ार (Tools to Holding jobs in Carpentry) के बारे में परीक्षा उपयोगी जानकारी दी गयी है। उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा। सभी प्रकार के प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी हिंदी भाषा में करने के लिए हमसे जुड़े रहें। यह लेख विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं UPSC, राज्य PSC, रेलवे, NTPC, पुलिस भर्ती, सेना भर्ती के लिए महत्वपूर्ण है। इस जानकारी को अपने दोस्तों से ज़रूर शेयर करें।

यह भी पढ़ें:-
मापन और चिन्हन औज़ार
फाउंड्री शॉप में प्रयुक्त पैटर्न मेकिंग सामग्री
ढलाई शाला के बारे में संक्षिप्त जानकारी
बढ़ईगिरी में लकड़ी को आपस में जोड़ने के तरीक़े
कास्टिंग में प्रयुक्त पैटर्न के प्रकार
बढ़ईगीरी में इस्तेमाल होने वाले कटिंग और शेविंग टूल्स
पैटर्न अलाउंस के प्रकार
सोल्डरिंग क्या है और सोल्डरिंग आयरन के प्रकार
घरों की इलेक्ट्रिकल वायरिंग के प्रकार

Post a comment

0 Comments