फ्रिज (Refrigerator) कैसे काम करता है | फ्रिज ठंडा कैसे करता है?

फ्रिज (Refrigerator) कैसे काम करता है | फ्रिज ठंडा कैसे करता है?


नमस्कार दोस्तों Exams Tips Hindi वेबसाइट में आपका स्वागत है। इस आर्टिकल में घरेलू फ्रिज यानी कि रेफ्रिजरेटर के बारे में जानकारी दी गयी है जैसे- रेफ्रीजिरेटर कैसे काम करता है, रेफ्रिजरेटर के कंपोनेंट्स, फ्रिज में कौन-सी गैस होती है, फ्रिज का उपयोग क्या-क्या है इत्यादि। ऐसे बहुत से घरेलू उपकरण है, जिन्हें हम रोज़ाना इस्तेमाल करते है, लेकिन उसके उसके फंक्शन के बारे में पता नही होता। घरेलू उपकरणों के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी होना भी जरूरी होता है, जिससे कि आप छोटे-मोटे डिफेक्ट्स को खुद ही रिपेयर कर लें। इस आर्टिकल में घरेलू रेफ्रिजरेटर के सभी अंगों के बारे में जानकारी दी गयी है।

Fridge kya hota hai, Fridge kaise kaam karta hai, Refrigerator kaise kaam karta hai
फ्रिज (Refrigerator) कैसे काम करता है | फ्रिज ठंडा कैसे करता है?

फ्रिज के उपयोग (Uses of Refrigerator)

फ्रिज का उपयोग सिर्फ खाद्य पदार्थों को ठंडा रखने के लिए ही नही होता। इसका उपयोग, खाद्य पदार्थ का प्रिजर्वेशन, बर्फ जमाने, मेडिसीन स्टोरेज, मिल्क प्रिजर्वेशन, मीट और फिश इत्यादि को लंबे समय तक रखने के लिए होता है। रेफ्रिजरेटर में दो भाग होते है- कूल कम्पार्टमेंट और कोल्ड कम्पार्टमेंट/फ्रीज़र। कूल कम्पार्टमेंट में फल, सब्जियां, मिल्क, मेडिसिन इत्यादि स्टोर किया जाता है। इस कम्पार्टमेंट का तापमान +4℃ से +8℃ तक मेन्टेन रहता है। फ्रीज़र यानी कोल्ड कंपार्टमेंट में चिकन, मटन, आइसक्रीम इत्यादि का स्टोरेज के लिए होता है। फ्रीजर का तापमान -4℃ से -20 तक मेन्टेन रहता है।
यह भी पढ़ें:-

फ्रिज के पार्ट्स | रेफ्रिजरेटर कंपोनेंट्स

रेफ्रिजरेटर यानी फ्रिज के मुख्यतः चार कॉम्पोनेंट्स होते है जो फ्रिज को ठंडा होने में मदद करते है- 1. कंप्रेसर, 2. कंडेनसर, 3. एक्सपैंशन वाल्व, 4.एवपोर्टोर। नीचे इन सभी पार्ट्स के बारे में जानकारी दी गयी है।

कंप्रेसर
कंप्रेसर
1. कंप्रेसर या संपीडक
रेफ्रीजिरेटर में कंप्रेसर का मुख्य कार्य, गैस को कंप्रेस करके सर्किट में गैस का फ्लो बनाए रखना है। यह कंप्रेसर Hermetically Sealed प्रकार का होता है। इसमें कंप्रेसर और मोटर दोनों ही sealed होते है। बाहर से यह काला रंग का, ओवल या गोल आकार का दिखता है। इस कंप्रेसर में लुब्रिकेशन के लिए oil इसके अंदर ही होता है। कंप्रेसर में रेफ्रिजरेटर गैस संपीड़न के पश्चात गर्म हो जाती है जिसे ठंडा करने के लिए कंडेनसर का प्रयोग किया जाता है। कंप्रेसर में गैस को कंप्रेस करने के लिए कंप्रेसर को मूवमेंट के लिए इलेक्ट्रिक मोटर का प्रयोग किया जाता है। कंप्रेसर में रेफ्रिजरेंट का प्रेसर भी बढ़ जाता है।

कंडेनसर, condenser
कंडेनसर
2. कंडेनसर
कंडेनसर (Condenser) का मुख्य कार्य कंप्रेसर से संपीडित गर्म गैस को ठंडा करना और उसका रूप (Form) बदलना। यहां पर ध्यान देने वाली बात यह है कि कंडेनसर का उपयोग कूलर से अलग होता है। कूलर में ऊष्मा का आदान प्रदान होता है, जबकि कंडेनसर में ऊष्मा का आदान प्रदान होने के साथ-साथ रूप भी बदल जाता है। रेफ्रिजरेटर के कंडेनसर में गर्म गैस आंशिक रूप से ठंडी हो जाती है साथ ही वह गैस से द्रव (Liquid) में बदल जाती है।
सामान्यतया कंडेनसर दो प्रकार के होते है- Water-cooled कंडेनसर और Air-cooled कंडेनसर। वाटर कूल्ड कंडेनसर में कूलिंग मीडियम के लिए पानी का प्रयोग किया जाता है। एयर कूल्ड कंडेनसर में कूलिंग मीडियम के लिए हवा का प्रयोग किया जाता है। रेफ्रिजरेटर में कंडेनसर एयर-कूल्ड होता है। रेफ्रिजरेटर के पीछे की तरफ आपने कंडेनसर फिन्स देखा होगा। संपीडक से निकली गर्म गैस रेफ्रिजरेटर के पीछे लगी जालीनुमा कंडेनसर फिन्स से गुजरती है। कंडेनसर से गुजरते समय गर्म गैस वातावरण के संपर्क में आते ही आंशिक रूप से ठंडी हो जाती है और साथ ही तरल रूप में बदल जाती है।

एक्सपैंशन वाल्व, expansion valve
एक्सपैंशन वाल्व
3. एक्सपैंशन वाल्व
कंडेनसर से निकली लिक्विड रेफ्रिजरेंट एक्सपैंशन वाल्व में प्रवेश करती है। एक्सपैंशन वाल्व में लिक्विड रेफ्रिजरेंट का विस्तार (Expand) होता है। एक्सपैंशन वाल्व (Expansion Valve) से निकलने के बाद लिक्विड रेफ्रिजरेंट का तापमान बहुत ही कम हो जाता है और आंशिक रूप से वापिस गैस (Vapor) के रूप में बदल जाती है। एक्सपैंशन वाल्व भी कई प्रकार के होते है। मुख्य रूप से Thermostatic Expansion Valve का उपयोग ज्यादा होता है। T.E.V. में तापमान कंट्रोल करने के लिए फीडबैक लाइन, एवपोर्टोर से आती है। यह फीडबैक लाइन एक्सपैंशन वाल्व को आवश्यकतानुसार खोलती/बंद करती है।

Evaporator
Evaporator
4. एवपोर्टोर (Evaporator)
एक्सपैंशन वाल्व से निकली ठंडी गैस (Partially Vapor) एवपोर्टोर के अंदर जाती है। एवपोर्टोर की बनावट coil की तरह होती है, जो फ्रिज के अंदर तापमान को बनाए रखता है। रेफ्रिजरेटर के फ्रीज़र वाले भाग के पास ही एवपोर्टोर होता है। इसलिए एवपोर्टोर में बर्फ जम जाती है। एवपोर्टोर में बहुत ज्यादा बर्फ का जम जाना भी सही नही होता है। एवपोर्टोर की coil (फ्रीज़र) की बर्फ की मोटी परत को पिघलाने के लिए डीफ्रॉस्टिंग (Defrosting) बटन दिया जाता है। इस बटन को दबाने से एवपोर्टोर में ठंडी रेफ्रिजरेंट का जाना रुक जाता है, साथ ही हीटर भी स्टार्ट हो जाता है। हमें अपने रेफ्रिजरेटर को डिफ्रॉस्ट करते रहना चाहिए।
यह भी पढ़ें:-

फ्रिज ठंडा कैसे करता है

फ्रिज में जिस गैस का प्रयोग किया जाता है वह निम्न हिमांक का होता है। फ्रिज में सभी कंपोनेंट्स लगने के बाद गैस चार्ज कर दिया जाता है। फ्रिज में गैस का सिस्टम बंद परिपथ (Closed Circuit) होता है। यह गैस यानी रेफ्रिजरेंट कंप्रेसर के सक्शन में लो-प्रेशर से जाता है। कंप्रेसर के डिस्चार्ज में गैस का प्रेशर और तापमान बढ़ जाता है। यह गर्म गैस कंडेनसर में आंशिक रूप से ठंडी हो जाती है, साथ ही लिक्विड रूप में बदल जाती है। यह लिक्विड रेफ्रिजरेंट एक्सपैंशन वाल्व में एक्सपैंड होती है। एक्सपैंशन वाल्व में रेफ्रिजरेंट के तापमान में बहुत गिरावट होती है। साथ ही एक्सपैंशन वाल्व में रेफ्रिजरेंट आंशिक रूप से पुनः गैस रूप में बदल जाती है। यह ठंडी गैस Evaporator में प्रवेश करती है। Evaporator में हीट एक्सचेंज होती है और फ्रिज ठंडा हो जाता है। यह vapor गैस कंप्रेसर के सक्शन में वापस चला जाता है।

फ्रिज में कौन-सी गैस होती है (Which Gas is Used in Refrigerator)

सन 1800 से 1920 ई. तक रेफ्रिजरेटर में टॉक्सिक गैसों का उपयोग किया जाता था। यह टॉक्सिक गैस क्लोरीन, फ़्लोरिन और कार्बन का मिश्रण होता है, जो वातावरण में उपस्थित ओज़ोन परत को नुकसान पहुचाती है। बाद में इन गैसों का रेफ्रिजरेटर में प्रयोग करना वर्जित हो गया।
आज कल ओज़ोन लेयर के क्षीण होने से बचने के लिए रेफ्रिजरेटर में टेट्राफ्लूरोएथेन, क्लोरोफ्लोरोकार्बन, पॉलीस्टीरीन, एक्रोलीनाईट्राइल का प्रयोग किया जाता है। आजकल अधिकांश रेफ्रिजरेटर में R134a (HFC-134a, टेट्राफ्लूरोएथेन) का प्रयोग किया जाता है।

उम्मीद है यह लेख आपके लिए बहुत उपयोगी रहा होगा। इस लेख में Fridge kya hota hai, Fridge kaise kaam karta hai, Refrigerator kaise kaam karta hai इत्यादि की जानकारी दी गयी है। यदि आपके पास कोई प्रश्न है, तो नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है।
यह भी पढ़ें:-

0/Post a Comment/Comments